ब्रेकिंग न्यूज़ जेटली मानहानि केस में केजरीवाल समेत 6 AAP नेताओं पर आरोप तय, चलेगा ट्रायल                जूनियर को फॉरेन सेक्रेटरी बनाए जाने से बासित नाराज, PAK ढूंढ रहा रिप्लेसमेंट                यूपी: सीतापुर में आग से जले 9 घर, 2 लाख का सामान जलकर हुआ खाक                    
राहत : बैंक से ऑनलाइन पैसे मुफ्त में भेज सकेंगे

राहत : बैंक से ऑनलाइन पैसे मुफ्त में भेज सकेंगे
बैंक से आरटीजीएस और एनईएफटी के जरिये पैसा भेजने पर अब कोई शुल्क नहीं देना होगा। रिजर्व बैंक ने गुरुवार को इसका ऐलान किया। साथ ही, केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट में .25 फीसदी की कटौती की घोषणा की है। ताजा कटौती के बाद रेपो दर 5.75 फीसदी हो गई है, यह नौ साल में सबसे कम है। इस फैसले के बाद यदि बैंक भी  ब्याज दरें घटाते हैं तो कर्ज पर ईएमआई कम हो जाएगी।

जल्द लाभ की उम्मीद : रिजर्व बैंक ने सभी बैंक से इस छूट का लाभ जनता तक पहुंचाने को कहा है। माना जा रहा है कि बैंक जल्द ब्याज दरों में कटौती करेंगे। दो लाख रुपये से अधिक की राशि तत्काल दूसरे के खाते में भेजने के लिए आरटीजीएस का उपयोग किया जाता है। इससे कम राशि भेजने के लिए एनईएफटी का इस्तेमाल होता है।

आईएमपीएस पर रुख साफ नहीं : आईएमपीएस से भी दो लाख रुपये तक दूसरे खाते में तुरंत भेजे जा सकते हैं। आम लोग सबसे ज्यादा इसी प्रणाली का इस्तेमाल करते हैं। इसका शुल्क एनईएफटी से अधिक होता है। रिजर्व बैंक ने इसके बारे में कुछ नहीं कहा है। 

बैंक ने ज्यादा राहत नहीं दी : रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट का ऐलान करते हुए कहा कि ब्याज दर में फिलहाल कोई वृद्धि नहीं होगी। बैंक दरों में मौजूदा कटौती तथा इससे पहले फरवरी और अप्रैल में की गई कटौती का लाभ ग्राहकों तक जल्द पहुंचाना होगा।  आरबीआई फरवरी से लेकर अब

तक रेपो रेट में  0.75 फीसदी की कटौती कर चुका है। वहीं,बैंक ने अभी तक सिर्फ .20 फीसदी की ही राहत आम लोगों को दी है। इससे गृह और वाहन ऋण पर ईएमआई उम्मीद के मुताबिक कम नहीं हुई है।

पूरा लाभ नहीं मिला

एटीएम शुल्क में राहत संभव

एटीएम और उसके इस्तेमाल से जुड़े सभी शुल्कों की समीक्षा के लिए आरबीआई ने समिति बनाई है। समिति दो महीने में रिपोर्ट देगी। विशेषज्ञों की मानें तो एटीएम निकासी पर शुल्क खत्म हो सकता है।

छह साल बाद रेपो रेट में कटौती की हैट्रिक

छह साल बाद ऐसा हुआ है जब लगातार तीसरी बार रिजर्व बैंक ने रेपो रेट घटाईं। इस साल सात फरवरी और चार अप्रैल को भी .25 फीसदी की कटौती की गई थी। इससे पहले 2013 में 29 जनवरी, 19 मार्च और तीन मई को क्रमश: .25% की कटौती की गई थी।

कितना फायदा

30 लाख तक का ऋण यदि 20 साल के लिए लिया जाए और उस पर 8.60 फीसदी की दर से ब्याज लगे तो ईएमआई ृ26224 रुपये आती है। रिजर्व बैंक की घोषणा के बाद अगर बैंक कर्ज में .25 फीसदी की कटौती करते हैं तो ईएमआई 25750 बनेगी। इस तरह करीब 474 रुपये की बचत होगी।

रेपो रेट : वह दर, जिस पर रिजर्व बैंक अन्य बैंक को उधार देता है। रिवर्स रेपो रेट वह होता है जिस पर बैंक पैसा आरबीआई में रखते हैं।

पैसा भेजने का समय

सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक। शनिवार को सुबह 8 बजे से 1 बजे तक पैसे भेजे जा सकते हैं।

अब तक शुल्क

एनईएफटी राशि शुल्क

10 हजार रुपये तक 1 रुपये

10 हजार से एक लाख 2 रुपये

एक लाख से दो लाख तक 3 रुपये

2 लाख रुपये से ऊपर 5 रुपये

आरटीजीएस

2 लाख से 5 लाख 5 रुपये

5 लाख रुपये से ऊपर 10 रुपये

(आंकड़े एसबीआई के, * बैंकों के अलग अलग शुल्क हैं)

Advertisment
 
Copyright © 2017-18 AAJ SAMACHAR - बुलंद आवाज़ दबंग अंदाज़.