ब्रेकिंग न्यूज़ जेटली मानहानि केस में केजरीवाल समेत 6 AAP नेताओं पर आरोप तय, चलेगा ट्रायल                जूनियर को फॉरेन सेक्रेटरी बनाए जाने से बासित नाराज, PAK ढूंढ रहा रिप्लेसमेंट                यूपी: सीतापुर में आग से जले 9 घर, 2 लाख का सामान जलकर हुआ खाक                    
प्रदेश में चार और नये निजी विवि बने....



    राज्य में निजी विवि की संख्या बढक़र 37 हुई,

    अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन का भी विवि खुलेगा

    (डॉ. नवीन जोशी)

    भोपाल। प्रदेश में चार और नये निजी विश्वविद्यालय स्थापित हो गये हैं। इन्हें मिब राज्य में निजी विश्वविद्यालयों की संख्या बढक़र 37 हो गई है। अब अगला निजी विवि अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन भोपाल में खोलने जा रहा है जिसके लिये उसने निजी विवि विनियामक आयोग को आवेदन किया है।
    आयोग ने चार नये निजी विवि खोलने हेतु राज्य सरकार को अनुशंसा की थी। इस पर राज्य सरकार ने विधानसभा के पिछले बजट सत्र में इन चारों विवि को खोलने हेतु संशोधन विधेयक पारित किया था जिसे अब राज्यपाल लालजी टण्डन ने स्वीकृति प्रदान कर दी है जिससे इन चारों विवि ने वैधानिक स्वरुप प्राप्त कर लिया है।
    ये हैं चार नये निजी विवि :
    राज्य शासन ने जिन चार निजी विवि को कानूनी रुप प्रदान किया है उनमें शामिल हैं : संजीव अग्रवाल ग्लोबल एजुकेशन विवि कटारा एक्सटेंशन सहारा बायपास रोड भोपाल, मंगलायतन विवि एनएच-12 ए शारदा देवी मंदिर के पास रिछाई बरेला जबलपुर, आईईएस विवि कलखेड़ा रातीबढ़ मेन रोड भोपाल तथा सेम ग्लोबल विवि ग्राम अगारिया चोपड़ा जिला रायसेन।
    एक और नया विवि खुलेगा :
    प्रदेश में एक और नया निजी विवि खुलने जा रहा है। यह विवि अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन भोपाल में खोलेगा। इसने आवेदन कर दिया है तथा निजी विवि विनायमक आयोग इसका परीक्षण कर रहा है।
    विभागीय अधिकारी ने बताया कि हमारी अनुशंसा पर राज्य सरकार ने चार नये निजी विवि खोलने हेतु संशोधन विधेयक विधानसभा में पारित कराया है तथा अब राज्यपाल ने इसे स्वीकृति प्रदान कर दी है। अब ये नये विवि अपने कोर्स के अध्यादेश जारी करेंगे तथा इसके बाद इनमें शैक्षणिक गतिविधियां प्रारंभ हो जायेंगी। अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन ने भी भोपाल में सोशल साईंस विषयों पर विवि खोलने का आवेदन किया है जिसका परीक्षण किया जा रहा है।

    सीआरपीएफ के अधिकारी का प्रतिनियुक्ति आदेश निरस्त
    भोपाल।
    राज्य शासन ने सीआरपीएफ के अधिकारी टीएस थोंगखोशी बायटे की मप्र पुलिस की हॉक फोस में दो साल की अवधि हेतु सहायक सेनानी के पद पर की गई प्रतिनियुक्ति का आदेश निरस्त कर दिया है। प्रतिनियुक्ति का यह आदेश 6 नवम्बर 2018 को जारी किया गया था परन्तु 24 अप्रैल 2019 को उक्त सीआरपीएफ अधिकारी ने प्रतिनियुक्ति पर आने से इंकार कर दिया। इसीलिये अब यह प्रतिनियुक्ति आदेश निरस्त कर दिया गया है।

    जल संसाधन विभाग में इंजीनियरों के तबादले
    भोपाल।
    जल संसाधन विभाग ने विभिन्न परियोजनाओं में पदस्थ इंजीनियरों के तबादले किए हैं। जारी अलग-अलग तबादला आदेशों के मुताबिक एसपी पटेल को कार्यपालन यंत्री सीधी क्रमांक 1 से अनूपपुर, मनोज तिवारी को सहायक यंत्री कोटर जिला सतना से प्रभारी कार्यपालन यंत्री क्योटी नहर संभाग रीवा, हरीश कुमार तिवारी को प्रभारी कार्यपालन यंत्री क्योटी नहर संभाग से गंगा कछार रीवा, नंदिनी तिवारी को सहायक यंत्री बामोरकला शिवपुरी से यमुना कछार ग्वालियर, श्यामराव धुर्वे को एसडीओ भीमपुर (बैतूल) से एसडीओ पांढुर्णा (छिंदवाड़ा) पदस्थ किया गया है। इसके अलावा विभाग ने पाढुंर्णा में पदस्थ उपयंत्री का अम्बाह (मुरैना) किया गया तबादला निरस्त करते हुए उनकी पोस्टिंग यथावत रखी है। 
    बीना से 9 इंजीनियरों का राहतगढ़ हुआ तबादला :
    एक अन्य तबादला आदेश के मुताबिक सागर जिले की बीना पीआईयू में पदस्थ 9 इंजीनियरों का तबादला सागर जिले के राहतगढ़ की बेतवा परियोजना में कर दिया है। आदेश के अनुसार सहायक यंत्री आलोक खरे, सहायक यंत्री अविनाश चतुर्वेदी, सहायक यंत्री आदित्य ताम्रकार, उप यंत्री जेके जैन, उप यंत्री राजू पटेल, उप यंत्री रवि शर्मा, उप यंत्री निजाम खान, उप यंत्री केएल कोरी और उप यंत्री बीपी शर्मा को बीना से राहतगढ़ पदस्थ किया गया है। इनमें से आलोक खरे परियोजना प्रशासक और अविनाश चतुर्वेदी और आदित्य ताम्रकार सहायक परियोजना प्रबंधक के रूप में राहतगढ़ में कार्य करेंगे। 
    डॉ. नवीन जोशी

Advertisment
 
Copyright © 2017-18 AAJ SAMACHAR - बुलंद आवाज़ दबंग अंदाज़.