ब्रेकिंग न्यूज़ जेटली मानहानि केस में केजरीवाल समेत 6 AAP नेताओं पर आरोप तय, चलेगा ट्रायल                जूनियर को फॉरेन सेक्रेटरी बनाए जाने से बासित नाराज, PAK ढूंढ रहा रिप्लेसमेंट                यूपी: सीतापुर में आग से जले 9 घर, 2 लाख का सामान जलकर हुआ खाक                    
व्यापारिक दोस्ती निभाने कमलनाथ फूंक रहे जनधन....


          

 *'आईटीए अवॉर्ड'  को सरकार कर रही स्पॉन्सर......

भोपाल।मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अपने 9 महीने के कार्यकाल में प्रदेश की जनता के लिए कोई भी ऐसा काम नहीं किया जिसकी सराहना की जाए! ये सरकार जो भी काम कर रही है, उल्टे मुख्यमंत्री खुद बिजनेसमैन हैं, इसलिए वे वही काम ज्यादा कर रहे हैं जिसमें उनका या उनके बिजनेसमैन दोस्तों का भला हो! ऐसा ही एक मामला इंदौर में 19वां 'इंडियन टेलीविजन एकेडमी' अवॉर्ड शो के आयोजन का है! जब सरकार के पास किसानों के कर्ज माफ़ करने का पैसा नहीं है,महँगाई भत्ता स्थगित किया, तो ऐसे मनोरंजन के कार्यक्रम करवाने का मकसद समझ से परे है। ये टेलीविजन अवॉर्ड शो है, जो 18 सालों से मुंबई में प्रायोजित तरीके से आयोजित किया जाता है! लेकिन, इस बार का अवॉर्ड शो इंदौर में सरकार आयोजित करवा रही है! इसका कारण है कि इस अवॉर्ड शो के कर्ताधर्ता शशिरंजन मुख्यमंत्री कमलनाथ के दोस्त हैं! ख़ास बात ये कि जनता से इस कार्यक्रम को देखने का टिकट भी वसूला जाएगा। सवाल उठता है कि जब ये टिकट लेकर दिखाया जाने वाला नाच, गाना है तो फिर सरकार इसमें क्यों शामिल हुई....?
    'आईटीए अवॉर्ड' समारोह 10 नवम्बर को इंदौर के नेहरू स्टेडियम में आयोजित किया जा रहा है! इस आयोजन का मध्यप्रदेश में आयोजित होना गर्व का विषय बताया जा रहा है। जबकि, ये नाच-गाना किसानों और बेरोजगारों को एक तरह से अपमानित करने वाला आयोजन है। मध्यप्रदेश सरकार इस आयोजन में ऐसी भागीदारी निभा रही है, जैसे इसके बाद मुंबई का बॉलीवुड भागकर इंदौर चला आएगा।  आश्चर्य की बात है कि एक निजी आयोजन के लिए जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा और जनसम्पर्क आयुक्त पी नरहरि ने इंदौर आकर सारी व्यवस्थाएं देखी और पत्रकार वार्ता ली।  मुख्यमंत्री कमलनाथ के विशेष प्रयासों से इस आयोजन की मेजबानी मध्यप्रदेश को मिली है। जबकि, इस टेलीविजन कलाकारों के इस आयोजन की मेजबानी को लेकर अभी तक कोई और आगे नहीं आया था और ये आयोजन मुंबई में ही आयोजित हुआ। इस आयोजन से प्रदेश को क्या फ़ायदा होगा, ये स्पष्ट नहीं हो सका! इस आयोजन से न तो प्रदेश को राजस्व मिलेगा और न बेरोजगारों के लिए नौकरियों के पद निर्मित होंगे! फिर क्या कारण है कि सरकार इस निजी शो पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही है! ये सरकारी धन का खुला दुरूपयोग है, जो मुख्यमंत्री कमलनाथ अपने मित्र शशि रंजन पर लुटा रहे हैं!  
   इंडियन टेलीविजन एकेडमी के संयोजक शशि रंजन के मुताबिक मुख्यमंत्री चाहते हैं, कि मध्यप्रदेश भी फिल्म एवं टेलीविजन सीरियल के निर्माण और शूटिंग के लिए अपनी पहचान बनाएं। इसीलिए उनके प्रयासों से यह समारोह इस वर्ष मध्यप्रदेश के इंदौर में किया जा रहा है। जबकि, असलियत ये है कि मध्यप्रदेश में कई बड़ी फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है और हो भी रही है! 'आईटी अवॉर्ड' शो से सिर्फ शशि रंजन को फ़ायदा होगा और किसी को नहीं! यदि मुख्यमंत्री कमलनाथ वास्तव में मध्यप्रदेश को फिल्म और टीवी के जरिए पहचान दिलाना चाहते हैं तो उन्हें ये नियम बनाना पड़ेगा कि मध्यप्रदेश में उन्हीं फिल्मों और टीवी सीरियलों की शूटिंग में मदद दी जाएगी, जो परदे पर मध्यप्रदेश के उस स्थान का जिक्र करेंगे! अभी जो  शूटिंग हो रही है, उससे प्रदेश को कोई पहचान नहीं मिल रही! महेश्वर को कभी इलाहाबाद बना दिया जाता है तो कभी कोई और पहचान दी जाती है।
-------------------------------------------------
-------------------------------

Advertisment
 
Copyright © 2017-18 AAJ SAMACHAR - बुलंद आवाज़ दबंग अंदाज़.