ब्रेकिंग न्यूज़ जेटली मानहानि केस में केजरीवाल समेत 6 AAP नेताओं पर आरोप तय, चलेगा ट्रायल                जूनियर को फॉरेन सेक्रेटरी बनाए जाने से बासित नाराज, PAK ढूंढ रहा रिप्लेसमेंट                यूपी: सीतापुर में आग से जले 9 घर, 2 लाख का सामान जलकर हुआ खाक                    
उज्जैन की हवाई पट्टी मामले में 5 कलेक्टर, 3 ईई सहित 16 पर प्रकरण दर्ज
-यश एयर से शर्तों का पालन करवाने में बरती लापरवाही और अनियमितता पर भ्रष्टाचार के साथ षडयंत्र का प्रकरण दर्ज
डॉ. नवीन जोशी
भोपाल।लोकायुक्त पुलिस ने उज्जैन से 13 किलोमीटर दूर देवास रोड़ स्थित दताना हवाई पट्टी को ठेके पर देने के बाद शर्तों का पालन नहीं होने पर शासन को हुई आर्थिक हानि और अनियमितता के मामले में तत्कालीन 5 कलेक्टरों और लोक निर्माण विभाग के 3 कार्यपालन यंत्रियों सहित यश एयर के 8 संचालकों पर प्रकरण दर्ज किया है।
उज्जैन लोकायुक्त संगठन के अधिकृत सुत्रों के मुताबिक वर्ष 2006 में दताना हवाई पट्टी यश एयरवेज लिमिटेड को 24-25 शर्तों के साथ 1.50 लाख रूपए वार्षिक लीज पर दी गई थी।प्रारंभिक वर्ष में ही कंपनी ने लीज की राशि जमा की उसके बाद कंपनी ने यह राशि भी जमा नहीं की।अनुबंध की शर्त अनुसार एयरपोर्ट की बाउंडरी वाल नही बनाई।ATC बिल्डिंग नही बनाया।इसके साथ ही अनुबंध की शर्तों के तहत कंपनी को हवाई पट्टी का संधारण कलेक्टर की सुपरविजन में लोक निर्माण विभाग से करवाना था वो भी कंपनी ने नहीं किया। कलेक्टर को प्रति हवाई जहाज रात्रि पार्किग का 200 रुपया प्रति रात्रि प्रति विमान का लेना एग्रीमेंट की शर्त था किन्तु 18 हवाई जहाज 10 वर्षो तक रात्रि पार्किग में खड़े रहे उसका किराया नही लिया गया।वर्ष 2013 में कंपनी ने काम बंद कर दिया।2016 तक हवाई पट्टी बंद रही फिरभी लीज़ निरस्त नही की।विमानन विभाग के प्रमुख सचिव एवं PWD विभाग के प्रमुख सचिव के अवैध आदेश पर तत्कालीन कलेक्टर ने हवाई पटटी के उन्नयन के लिए 2.66 करोड़ का प्रस्ताव राज्य शासन को भेजा और इस राशि से हवाई पट्टी का उन्नयन कार्य किया गया जबकि शासन को भेजे गए इस प्रस्ताव से पहले कलेक्टर को यश एयरवेज के साथ हुए अनुबंध को निरस्त करना था।ऐसा नहीं किया गया।इसके चलते शासन को लीज के रूप में लाखों  का नुकसान हुआ ।इसके अतिरिक्त शर्तों के मुताबिक यश एयरवेज से हवाई पट्टी का संधारण न करवाने के एवज में करीब 2.66 करोड़ की राशि का नुकसान हुआ।यही नहीं वर्ष 2013 से 2016 के बीच हवाई पट्टी के बंद रहने से परिचालन की आय का भी नुकसान उठाना पड़ा।मामले में लोकायुक्त को हुई शिकायत के बाद प्राथमिकी दर्ज कर जांच की गई इसमें तत्कालीन कलेक्टर शिवशेखर शुक्ला,अजातशत्रु श्रीवास्तव,एम गीता,बीएम शर्मा,कविन्द्र कियावत के साथ लोक निर्माण विभाग के तत्कालीन कार्यपालन यंत्री एस एस सलूजा, ए के टुटेजा ,जी पी पटेल और यश एयर लिमिटेड के संचालक एवं पूर्व लोकायुक्त डीजीपी अरूण गुर्टू ,मध्य प्रदेश एवं देश के पूर्व रेवेन्यु सेक्रेटरी एम आर शिवरमन यशराज टोंग्या , भरत टोंग्या ,शिरिष दलाल , विजेन्द्र कुमार जैन , दुष्यंतलाल कपूर ,दिलीप रावल के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 एवं भारतीय दंड विधान में षडयंत्र की धारा 120 बी के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।
-प्राथमिकी के आधार पर जांच की गई।दस्तावेज के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। इसमें तत्कालीन 5 कलेक्टरर्स,3 कार्यपालन यंत्री एवं यश एयरवेज से संबंधित संचालक एवं अन्य पर प्रकरण दर्ज किया गया है।
  डॉ. नवीन जोशी
Advertisment
 
Copyright © 2017-18 AAJ SAMACHAR - बुलंद आवाज़ दबंग अंदाज़.