ब्रेकिंग न्यूज़ जेटली मानहानि केस में केजरीवाल समेत 6 AAP नेताओं पर आरोप तय, चलेगा ट्रायल                जूनियर को फॉरेन सेक्रेटरी बनाए जाने से बासित नाराज, PAK ढूंढ रहा रिप्लेसमेंट                यूपी: सीतापुर में आग से जले 9 घर, 2 लाख का सामान जलकर हुआ खाक                    
सभी सीएमओ से मांगे यौन हिंसा से पीड़ित लोगों के परीक्षण का सर्टिफिकेट



डॉ. नवीन जोशी

भोपाल।राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों/सिविल सर्जनों से यौन हिंसा से पीडि़त लोगों की चिकित्सकीय परीक्षण का प्रमाण-पत्र 15 जनवरी तक मांगा है।
यह प्रमाण-पत्र इसलिये मांगा गया है ताकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव एवं डीजीपी को इस संबंध में स्टेट्स रिपोर्ट देना है।
ऐसा होगा प्रमाण-पत्र :
राज्य शासन ने सभी सीएमओ एवं सिविल सर्जनों को प्रमाण-पत्र का प्रारुप भी भेजा है। इस प्रमाण-पत्र में कहा गया है कि ‘‘प्रमाणित किया जाता है कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी/सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक के अधीनस्थ कार्यरत समस्त कर्मचारियों, चिकित्सा अधिकारियों एवं चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाईडलाईन्स एण्ड प्रोटोकॉल्स-मेडिको-लीगल एक्जीमिनेशन आफ सर्वाईवल/विक्टिम आफ सेक्सुअल असाल्ट’’ का शतप्रतिशत अनुपालन किया जा रहा है एवं उपरोक्त दिशा-निर्देशों के साथ संलग्न प्रपत्र पर्याप्त संख्या में संबंधित चिकित्सा अधिकारी एवं चिकित्सा विशेषज्ञों के पास उपलब्ध हैं। प्रमाण-पत्र के अंत में सीएमओ/सिविल सर्जन के हस्ताक्षर होना जरुरी होगा।
सजा का है प्रावधान :
दरअसल भारत सरकार की उक्त गाईडलाईन का पालन ऐसे प्रत्येक स्वास्थ्य कर्मचारी, चिकित्सा अधिकारी एवं चिकित्सा विशेषज्ञ को करना अनिवार्य है जो यौन हिंसा से पीडि़त मरीजों के परीक्षण से संबंधित कार्य संपादित करते हैं। इन दिशा-निर्देशों का पालन न करने पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 166-बी के अंतर्गत कार्यवाही, जुर्माने एवं सजा का प्रावधान है।

प्रदेश के सभी शासकीय एवं निजी कालेजों में
लगेंगे गांधी स्तम्भ व विवि में बनेगी गांधी चेयर

30 जनवरी को मुख्यमंत्री राज्य स्तरीय समारोह में करेंगे उद्घाटन

भोपाल।प्रदेश के समस्त शासकीय एवं निजी कालेजों में गांधी स्तम्भ बनेंगे और विविश्वविद्यालयों में गांधी चेयर की स्थापना होगी। आगामी 30 जनवरी को भोपाल में राज्य स्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री कमलनाथ इनका विधिवत प्रतीकात्मक सामूहिक उद्घाटन करेंगे।
राज्य के उच्च शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी कालेजों के प्राचार्यों से कहा है कि जिन कालेजों के पास स्वयं की भूमि एवं कालेज है, वे उपयुक्त स्थल पर गांधी स्तम्भ का चयन एवं निर्माण जनभागीदारी समिति की सहमति से करें तथा इसका व्यय भी समिति की निधि से करें। निजी कालेज अपनी निधि से यह निर्माण करायें।
इसी प्रकार उच्च शिक्षा विभाग ने सभी विविश्वद्यिालयों से कहा है कि वे अपने राजनैतिक शास्त्र विभाग के अंतर्गत गांधी चेयर की स्थापना करें। इस चेयर के माध्यम से गांधी जी पर केन्द्रित शोध कार्य करने वाले शोधार्थियों को अन्य छात्रवृत्ति के साथ-साथ 5 हजार रुपये प्रति माह तथा साल में अधिकतम 60 हजार रुपये प्रदान करते हुये तीन साल के लिये 1 लाख 80 हजार रुपये शोध प्रोत्साहन राशि के रुप में प्रदान करें। इस व्यय का वहन स्वयं विवि करेंगे। 26 जनवरी तक गांधी स्तम्भ के निर्माण एवं चेयर की स्थापना के लिये कहा गया है।
इसीलिये चुना दिन उद्घाटन का :
30 जनवरी का दिन इसलिये गांधी स्तम्भ और गांधी चेयर के लिये चुनाव गया है क्योंकि इस दिन गांधी जी की पुण्य तिथि है। उन्हें इसी दिन नाथूराम गोडसे ने गोली मारी थी जिससे उनकी मृत्यु हो गई थी।
डॉ. नवीन जोशी
   
   
  

Advertisment
 
Copyright © 2017-18 AAJ SAMACHAR - बुलंद आवाज़ दबंग अंदाज़.