इंदौर. रतलामी सेव और इंदौर (indore) के नमकीन. ये पहचान देश-विदेश में है. अपने नमकीन और स्वच्छता में देश विदेश में पहचान वाले इंदौर की पहचान इन दिनों कोरोना (corona) के कारण हो रही है.खान-पान के शौकीनों के इस शहर में कोरोना ने सबको घरों में कैद कर दिया. कोरोना संक्रमण के कारण शहर के सारे व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद थे. धीरे धीरे प्रशासन ने तमाम आवश्यक वस्तुओं की सप्लाय शुरू करवाई,तो लोगों की तरफ से सबसे पहले नमकीन की मांग आयी. प्रशासन ने भी उन्हें निराश नहीं किया और डोर-टू-डोर सप्लाई (door-to-door) में नमकीन भी सप्लाई शुरू कर दिया.इंदौर के नमकीन की इतनी डिमांड है कि इसकी सप्लाई देश-विदेश में होती है. लेकिन कोरोना के कारण इंदौर वाले ही नमकीन का ज़ायका नहीं ले पा रहे थे. जैसे ही प्रशासन ने सामान की होम डिलीवरी शुरू की, चटपटे नमकीन के शौकीनों ने फौरन अपनी डिमांड प्रशासन के सामने रख दी. उन्होंने कहा-हमें नमकीन चाहिए. प्रशासन ने भी हामी भरने में देर नहीं की और और डोर टू डोर नमकीन सप्लाय की अनुमति दे दी. हालांकि शुरुआती चरण होने के कारण महज 20 व्यापारियों को ही इसकी अनुमति दी गई है.

नमकीन खाओ लेकिन नियम मत भूलो
प्रशासन ने जनता की मांग मानी साथ में ये भी बता दिया कि नियम तो मानना ही होगा. शर्तों का पालन करने पर ही नमकीन खाने और खिलाने की छूट रहेगी. ग्राहकों कीनमकीन व्यापारियों को उनके घर पर नमकीन पहुंचाना होगा. कारखाने में सोशल डिस्टेंस और सेनेटाइजेशन का ख्याल रखना होगा. कोई भी ग्राहक दुकान पर आकर सामन नही खरीद सकेगा.

व्यापारियों ने की थी मांग
बीते दिनों नमकीन मिठाई व्यापारी एसोसिएशन ने प्रशासन से मांग करते हुए इस व्यापार की अनुमति माँगी थी. व्यपारियों के मुताबिक़ कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन तो आवश्यक है ही लेकिन जिस तरह सब्जी की सप्लाय की जा रही है इसी तरह की अनुमति नमकीन व्यापारियों के लिए दे दी जाए, तो बेहतर होगा. चूँकि इंदौर का नमकीन न सिर्फ इंदौर बल्कि देश विदेश तक में प्रसिद्ध है,आम दिनों में रोज 120 टन से अधिक नमकीन यहां बनाया जाता है.

नियम नहीं मानें तो सज़ा मिलेगी
इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक़ शहर में घर-घर पर नमकीन सप्लाय करने की अनुमति दी गई है.पहले चरण में 20 नमकीन व्यापारियों को नियमों के पालन करने के साथ कार्य करने की अनुमति दी गई है. सभी नमकीन व्यापारियों को अपने कारखाने से ही ऑर्डर का सामान ग्राहकों तक भेजना होगा. यदि तय नियमों का पालन नही हुआ तो दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी.