अर्जेंटीना के कप्तान और स्पेनिश क्लब बॉर्सिलोना की ओर से खेलने वाले स्टार स्ट्राइकर लियोनेल मेसी ने खुलासा किया है कि एक समय ऐसा भी था जब वह इस क्लब को छोड़ना चाहते थे। मेसी ने कहा कि तब उन्हें स्पेन सरकार से परेशानी थी इसी कारण वह क्लब छोड़कर जाना चाहते थे। 
मेसी ने कहा, " उस समय कर विवाद के कारण मैं बार्सिलोना को छोड़ना नहीं चाहता था, पर मैं स्पेन को छोड़ना चाहता था।"
उन्होंने कहा, " मुझे लगा कि मेरे साथ बहुत बदसलूकी की जा रही है और मैं यहां नहीं रहना चाहता। तब मेरे पास कभी अन्य क्लब का कोई आधिकारिक प्रस्ताव नहीं था क्योंकि हर कोई मेरा विचार जानता था कि मुझे यहां रहना है।"
तब मेसी और उनके पिता जॉर्ज को कर विवाद मामले में दोषी पाया गया था और उन पर करीब 15 करोड़ का जुर्माना लगाया गया था। साथ ही उन्हें 21 महीने की जेल की सजा भी सुनाई गई थी हालांकि बाद में जुर्माना अदा करने के बाद वह जेल जाने से बच गये थे। इस खिलाड़ी ने कहा कि यह मेरे और मेरे परिवार के लिए काफी मुश्किल समय था क्योंकि लोग समझ नहीं पा रहे थे कि क्या हो रहा है। उस समय जो कुछ भी हुआ वह मेरे लिए समझना कठिन था।मेसी सबसे सबसे बेहतर फुटबॉलर है : रोनाल्डिहो
ब्राजील के रोनाल्डिहो के अनुसार अर्जेंटीना के कप्तान और बार्सिलोना क्लब की ओर से खेलने वाले लियोनन मेसी सबसे बेहतर खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा, 'मेसी इस खेल इतिहास के सबसे महान खिलाड़ी है। जो उन्होंने किया वह कोई नहीं कर पाया। युवेंटस के क्रिस्टीयानो रोनाल्डो भी शानदार है लेकिन मुझे मेसी का स्टाइल ज्यादा पसंद है.' रोनाल्डो भी इससे सहमत दिखे और कहा कि मेसी के खेलने का तरीका शानदार है। वहीं इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी डेविड बेकहम ने भी मेसी को सबसे अलग खिलाड़ी बताया था। उन्होंने कि मेसी एक खिलाड़ी के रूप में अपनी क्लास में अकेले हैं और यह असंभव है कि उनके जैसे कोई दूसरा हो।
इसके अलावा ब्राजील के महान खिलाड़ी पेले ने कहा, 'मेसी के पास काफी स्किल है, वह सिर्फ गोल ही नहीं करता उसके लिए मूव बनाता है, पास करता है ड्रिबल करता है। अगर हम दोनों किसी टीम में होते तो विरोधियों को दोनों के बारे में सोचना पड़ता। आज मेसी सबसे संपूर्ण खिलाड़ी है।'
इसके साथ ही उन्होंने जिको, रोनाल्डिन्हो, रोनाल्डो नाजारियो, फ्रांज बेकबाउर और जोहान क्रूफ को भी बेहतरीन खिलाड़ी बताया है।   इन सभी को पेले ने ऑल टाइम फेवरेट खिलाडिय़ों की लिस्ट में शामिल किया है। इस बीच हैरानी की बात यह है कि पेले ने अर्जेंटीना के स्टार फुटबॉलर रहे डिएगो माराडोना का नाम नहीं लिया, जो उनके सबसे करीबी प्रतिद्वंद्वी माने जाते हैं।